रुद्रांश पान्डेय:ब्राह्मण किंग से किंग मेकर बना फिर भी किनारे किया

संपादकीय,राजनीति संदेश Iब्राह्मणों की वर्तमान स्थिति:- आधुनिक भारत के निर्माण के विभिन्न क्षेत्रों जैसे साहित्य, विज्ञान एवं प्रौद्यौगिकी, राजनीति, संस्कृति, पाण्डित्य, धर्म में ब्राह्मणों का अपरिमित योगदान है। प्रमुख क्रांतिकारियों और…
Read More...

लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक की जयंती पर जानें उनके जीवन से जुड़ी रोचक बातें

नई दिल्ली, राजनीति संदेश । 'स्वराज यह मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है और मैं इसे लेकर ही रहूंगा' का नारा देने वाले, महान स्वतंत्रता सेनानी लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक की आज जयंती है। उनका जन्म 23 जुलाई, 1856 को महाराष्ट्र के कोंकण प्रदेश…
Read More...

जिज्ञासाओं को शांत करने का सुअवसर है चातुर्मास : राजनीति संदेश

संपादकीय ,राजनीति संदेश I जैन धर्म में इसे सामूहिक वर्षायोग तथा चातुर्मास के रूप में जाना जाता है। मान्यता है कि बारिश के मौसम के दौरान अनगिनत कीड़े-मकौड़े और छोटे जीव को इन आंखों से नहीं देखा जा सकता है तथा वर्षा के मौसम के दौरान जीवों…
Read More...

२३ जून डा श्यामाप्रसाद मुखर्जी बलिदान दिवस…

 संपादकीय,राजनीति संदेश छह जुलाई, १९०१ को कोलकाता में श्री आशुतोष मुखर्जी एवं योगमाया देवी के घर में जन्मे डा श्यामाप्रसाद मुखर्जी को दो कारणों से सदा याद किया जाता है। पहला वे योग्य पिता के योग्य पुत्र थे।श्री आशुतोष मुखर्जी…
Read More...

“सूर्यग्रहण” पर विशेष

संपादकीय,राजनीति संदेश हमारे देश भारत का मार्गदर्शन आदिकाल से धर्मग्रन्थों ने किया है।इतिहास एवं पुराण के माध्यम से हम पूर्वकाल में घटित हो चुकी घटनाओं के विषय में जानकारी प्राप्त करते हैं। अनेक ऐसी घटनायें, देवी-देवता, भगवान, अवतार,…
Read More...

एक नजर में जान ले चीन 1962 से 2020 तक कितना बदल गया है भारत,

नई दिल्‍ली,राजनीति संदेश । 1962 के चीन हमले में भारत को पराजय मिली। भारतीय सैनिकों ने जी जान लगा दिया पर उन्हें हार का मुंह देखना पड़ा। इसी पराजय पर चीन इतिहास से सबक लेने का तंज कसता रहा है। फिर से युद्ध जैसे हालात बन रहे हैं। पर ये…
Read More...

नेपाल भारत: दोनों देशों के संबंध सैकड़ों वर्ष पुराने, भारत को भरोसे में लेकर आगे बढ़े नेपाल

संपादकीय, राजनीति संदेश नेपाल ने भारत द्वारा सीमा पर बनाई जा रही कुछ सड़कों को लेकर विरोध जताया है। यह जानना जरूरी है कि भारत और नेपाल के संबंध सदियों पुराने हैं। नेपाल में जनकपुर में ही भगवान रामचंद्र की ससुराल और माता सीता का मायका…
Read More...

जब चींटी भयभीत हो…आनंद का आषाढ़

अध्यात्म राजनीति संदेश ऋतु परिवर्तन और प्रकृति के चक्र के निर्धारण के पीछे मानव को कई प्राणियों से प्रेरणाएं भी मिली हैं। बारिश को ही लीजिये, घाम के दौर में जब उमस बढ़ती है, बच्चों ही क्या हमारे बदन में घमौरियां फूट पड़ती है और…
Read More...

आर्थिक पैकेज कितना असरकारी: यह सीधी राहत देने वाली कम नीतिगत घोषणाएं अधिक हैं

नई दिल्ली,लॉकडाउन के तीसरे चरण में यह जो उम्मीद की जा रही थी उसके खत्म होते-होते कोरोना संकट से उपजे हालात सुधर जाएंगे और कारोबारी गतिविधियां शुरू हो जाएंगी वे पूरी नहीं हुईं। लॉकडाउन के चौथे चरण की तैयारी के बीच यह देखने में आ रहा है…
Read More...

सास बहू संबंध : स्नेह की शुरुआत सासु जी को ही करना पड़ता है

संपादकीय बधू लरिकनीं पर घर आईं।राखेहु नयन पलक की नाईं।। सुंदर बधुन्ह सासु लै सोईं।फनिकन्ह जनु सिरमनि उर गोईं।। कुछ अपवाद को छोड़कर कहते हैं नnकि "बोए पेड़ बबूर का तो आम कहाँसे होए" सास बहू के संबंध में यह अक्षरशः लागू होता है। आप…
Read More...

...