हरियाणा सचिवालय से जुड़े सोनीपत शराब घोटाले के तार, आने लगा सियासी रंग

हरियाणा में शराब घोटाला मामले में सियासी रंग आने लगा है। मामला अब गृहमंत्री अनिल विज और उपमुख्‍यमंत्री दुष्‍यंत चौटाला के बीच झूल रहा है। घोटाले के तार सचिवालय से भी जुड़ रहे हैं।

चंडीगढ़/नई दिल्‍ली,राजनीति संदेश अनूप जी प्रधान। हरियाणा के सोनीपत जिले के खरखौदा स्थित गोदाम में हुए शराब घोटाला अब सियासी रंग लेता न‍जर आ रहा है। पूरा मामला हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज और राज्‍य के उपमुख्‍यमंत्री दुष्‍यंत चौटाला के बीच झूलता दिख रहा है। दुष्‍यंत के पास आबकारी विभाग का कार्यभर है। अब मामले में विपक्षी नेता भी कूद पड़े हैं। इनेलो नेता अभय चौटाला ने अनिल विज द्वारा उठाए गए कदमों का समर्थन किया है। दूसरी ओर, इस घोटाले के तार चंडीगढ़ स्‍थित हरियाणा के सिविल सचिवालय तक जुड़ गए हैैं।

 इनेलाे नेता अभय चौटाला ने अनिल विज के कदमों का किया समर्थन

इस मामले में हरियाणा सरकार की एसआइटी गठित होने से पहले ही एडीजीपी संदीप खिरवार ने पहले ही एसआइटी का गठन कर दिया है। रोहतक के पुलिस अधीक्षक (एसपी) राहुल शर्मा के नेतृत्व में बनाई गई एसआइटी ने अपनी जांच शुरू कर दी है। दूसरी ओर सोनीपत पुलिस ने चंडीगढ़ पुलिस के साथ मिलकर बीती रात चंडीगढ़ में आरोपित भूपेंद्र सिंह की कोठी पर दबिश दी।

सरकार की एसआइटी से पहले ही रोहतक एसपी के नेतृत्व में बना दी गई एसआइटी

भूपेंद्र सिंह वह विवादित व्यक्ति है, जिसके गोदाम में पुलिस द्वारा जब्त की गई तथा आबकारी विभाग की शराब रखी गई थी, जिसे बाद में लाकडाउन के दौरान बेच दिया गया। पुलिस के पहुंचने से पहले ही भूपेंद्र सिंह यहां से बच निकलने में कामयाब रहा। उसे पुलिस के छापे की भनक पहले ही लग गई थी। पुलिस ने उसके घर से तीन मोबाइल फोन, 90 लाख रुपये नगद और ज्वैलरी बरामद की है।

हरियाणा पुलिस को लगता है कि मोबाइल फोन से उसे काफी सुराग मिल सकते हैं। अब पुलिस तीनों फोन का रिकार्ड खंगालेंगी। फोन में आए मैसेज के अलावा भेजे गए मैसेज और काल डिटेल जुटाई जाएगी। पुलिस मोबाइल फोन के जरिये यह भी पता लगाएगी कि शराब बिक्री के दौरान भूपेंद्र सिंह की किन-किन लोगों से बातचीत हुई।

हरियाणा व चंडीगढ़ पुलिस ने गोदाम के मालिक भूपेंद्र के आवास पर मारा छापा, बच निकला

हरियाणा के गृह विभाग से जुड़े सूत्रों ने संकेत दिए कि भूपेंद्र सिंह की पुलिस के भी कई बड़े अफसरों से सीधी बातचीत होती थी। भूपेंद्र सिंह कई बार हरियाणा सिविल सचिवालय में भी देखा गया है। वह अधिकारियों से मिलने के लिए ही आया करता था। भूपेंद्र सिंह पर दो जिलों में पहले से ही 11 मुकदमे चल रहे हैं। गृह मंत्री अनिल विज ने डीजीपी मनोज यादव से भूपेंद्र सिंह के खिलाफ चल रहे सभी मामलों की जानकारी तलब की है। साथ ही यह भी पूछा है कि सोनीपत पुलिस ने आखिर भूपेंद्र सिंह के गोदाम में किसकी मंजूरी से पकड़ी गई शराब को रखा।

...