सातवें चरण के मतदान वाले क्षेत्रों में प्रचार थमा, नौ जिलों के 54 विधानसभा क्षेत्र में सात को पोलिंग

लखनऊ, । इस बार विधानसभा चुनाव में चक्रव्यूह के अंतिम यानी सातवें चरण में सात मार्च को मतदान होगा। जिसमें नौ जिलों के 54 विधानसभा क्षेत्र के 2.06 करोड़ मतदाता 613 प्रत्याशियों का भाग्य ईवीएम में कैद करेंगे। उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव 2022 में सात चरण में होने चुनाव के अंतिम चरण के मतदान वाले क्षेत्रों में प्रचार का कार्य शनिवार शाम थम गया।प्रदेश में सात मार्च को आजमगढ़, मऊ, गाजीपुर, जौनपुर, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी, मिर्जापुर, चंदौली, सोनभद्र और भदोही जिले में मतदान होना है। इन जिलों के 54 विधानसभा क्षेत्रों से कुल 613 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं।

जिनके भाग्य का फैसला पूर्वी उत्तर प्रदेश के 2.06 करोड़ मतदाता करेंगे। नौ में से सात जिलों में मतदान प्रात: सात बजे से शाम छह बजे तक होगा जबकि नक्सल प्रभावित सोनभद्र तथा चंदौली की कुछ सीट पर मतदान सुबह सात बजे से शाम चार बजे तक चलेगा। सोनभद्र के राबटर्सगंज व दुद्धी तथा चंदौली के चकिया विधानसभा क्षेत्र में मतदान प्रात: सात बजे से शाम को चार बजे तक होगा।सातवें चरण में राजनीति के कई दिग्गजों समेत योगी आदित्यनाथ सरकार के आठ मंत्रियों की परीक्षा होगी। इनमें से सात वर्तमान मंत्री हैं जबकि एक विधान सभा चुनाव की घोषणा के बाद मंत्रिमंडल से इस्तीफा देकर भाजपा छोड़ समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए हैं।

पिछले चुनाव में इन 54 सीटों में से भाजपा ने 29, सपा ने 11, बसपा ने छह, अपना दल (एस) ने चार, सुभासपा ने तीन और निषाद पार्टी ने एक सीट जीती थी।सातवें चरण के रण में उतरे आठ वर्तमान मंत्रियों में एक कैबिनेट, दो राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) और पांच राज्य मंत्री स्तर के हैं। पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री अनिल राजभर वाराणसी की शिवपुर सीट से फिर किस्मत आजमा रहे हैं।

स्टांप एवं निबंधन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) रवींद्र जायसवाल वाराणसी उत्तर, पर्यटन एवं संस्कृति राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) नीलकंठ तिवारी वाराणसी दक्षिण, आवास एवं शहरी नियोजन राज्य मंत्री गिरीश यादव जौनपुर, ऊर्जा राज्य मंत्री रमाशंकर सिंह पटेल मीरजापुर की मडि़हान सीट से चुनाव लड़ रहे हैं। राज्य मंत्री संगीता बलवंत गाजीपुर में सदर तथा संजीव गोंड सोनभद्र के ओबरा से मैदान में हैं। वन एवं पर्यावरण मंत्री रहे दारा सिंह चौहान विधान सभा चुनाव की घोषणा के बाद मंत्री पद से त्यागपत्र देकर भाजपा छोड़ समाजवादी पार्टी में शामिल हो चुके हैं। वह मऊ की घोसी सीट से सपा प्रत्याशी हैं।

...