आरोपित दारोगा राहुल दुबे व सिपाही प्रशांत गिरफ्तार,मनीष हत्याकांड

गोरखपुर राजनीति संदेश,I आरोपित दारोगा राहुल दूबे और सिपाही प्रशांत यादव को कैंट और रामगढ़ताल थाने की टीम ने मंगलवार की दोपहर गिरफ्तार कर लिया। दोनों कोर्ट में सरेंडर करने आए थे। एसएसपी के सूचना देने पर रामगढ़ताल थाने पहुंचे एसआइटी प्रभारी आनंद प्रकाश तिवारी आरोपितों से पूछताछ कर रहे हैं। आरोपितों को रात में कोर्ट में पेश करने की तैयारी चल रही है।

10 अक्‍टूबर को गिरफ्तार किए गए थे मुख्‍य आरोपित इंस्‍पेक्‍टर व अक्षय मिश्र

10 अक्टूबर को पुलिस ने मुख्य आरोपित इंस्पेक्टर जगत नारायण सिंह और दारोगा अक्षय मिश्रा को गिरफ्तार किया था। जिसके बाद चार अन्य आरोपित पुलिसकर्मियों को पकड़ने की कवायद तेज हो गई थी। क्राइम ब्रांच, रामगढ़ताल पुलिस के साथ ही एसआइटी कानपुर की टीम गाजीपुर, जौनपुर, मिर्जापुर, लखनऊ के साथ ही आरोपितों के हर संभावित ठिकानों पर पिछले 14 दिन से छापेमारी कर रही है।लेकिन दारोगा राहुल दूबे, विजय यादव, मुख्य आरक्षी कमलेश यादव, आरक्षी प्रशांत पकड़ से दूर थे।

कोर्ट में समर्पण करने आए थे दारोगा और सिपाही

सोमवार की सुबह राहुल दूबे समेत सभी आरोपितों के सीजेएम कोर्ट में सरेंडर करने की सूचना पर कचहरी पुलिस छावनी में तब्दील कर दी गई थी। एसपी सिटी की अगुवाई में फोर्स पूरे दिन सीजेएम कोर्ट के आसपास मुस्तैद रही। एक लाख के इनामी हत्यारोपित पुलिसकर्मियों को पहचानने वाले दारोगा व सिपाही कचहरी गेट पर खड़े रहे।चर्चा है कि कोर्ट में सरेंडर करने की कोई संभावना न दिखने पर आरोपितों ने गोरखपुर में तैनात अपने करीबी पुलिसकर्मियों से संपर्क किया। जिनके जरिए गिरफ्तारी मैनेज हुई।कानपुर के बर्रा निवासी कारोबारी मनीष गुप्ता 27 सितंबर की सुबह आठ बजे गोरखपुर घूमने आए थे। उनके साथ हरियाणा के उनके दोस्त हरबीर और प्रदीप भी थे। तीनों युवक तारामंडल स्थित होटल कृष्णा पैलेस के कमरा नंबर 512 में रुके थे।

रामगढ़ताल थाना प्रभारी जगत नारायण सिंह समेत छह पुलिसकर्मी रात करीब साढ़े 12 बजे कमरे की तलाशी लेने पहुंच गए। आधी रात को इस तरह कमरे की तलाशी लेने पर मनीष ने आपत्ति जताई तो पुलिसकर्मियों से उनका विवाद हो गया। आरोप है कि इंस्पेक्टर जगत नारायण सिंह और पुलिस टीम ने पीट-पीटकर मनीष की हत्या कर दी। हालांकि पुलिस वालों का कहना था कि मनीष शराब के नशे में धुत थे और गिरने की वजह से उनकी मौत हुई। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मनीष के शरीर पर कई जगह चोट के निशान मिले। मनीष की पत्नी मीनाक्षी की तहरीर पर पुलिस ने छह पुलिसकर्मियों पर हत्या का मुकदमा दर्ज किया है। जिसकी विवेचना कानपुर एसआइटी कर रही है।

एसएसपी डा. विपिन ताडा ने बताया कि फरार चल रहे दारोगा राहुल दुबे और सिपाही प्रशांत को मंगलवार की दोपहर आजादनगर से गिरफ्तार किया गया। दोनों कोर्ट में सरेंडर करने के इरादे से गोरखपुर आए थे। दो अन्य आरोपित विजय यादव व कमलेश की तलाश चल रही है।जल्द ही उन्हें भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

...