अमेरिका के राष्ट्रपति चुनावों में जो बाइडन को चीन और रूस ने बधाई देने से किया इनकार,

बीजिंग, राजनीति संदेश [ब्यूरो] ।  अमेरिका के राष्ट्रपति चुनावों में जो बाइडन के जीत के एलान का संज्ञान लिया है, लेकिन फिलहाल कोई बधाई संदेश नहीं भेजेगा। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने कहा कि अमेरिकी कानून और प्रक्रियाओं के तहत चुनाव के नतीजों का निर्धारण होगा और चीन अपनी भावनाएं जाहिर करने में अंतरराष्ट्रीय रवायतों का पालन करेगा। बता दें कि वर्ष 2016 में राष्ट्रपति ट्रंप के निर्वाचित होने के दूसरे दिन यानी नौ नवंबर को ही चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने उन्हें बधाई दी थी।व्यापार, प्रौद्योगिकी और एशिया और दुनिया के अन्य हिस्सों में प्रभाव को लेकर चीन के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ रिश्ते तल्ख रहे थे। विश्लेषकों का मानना है कि चीन द्वारा बाइडन के साथ रिश्तों को कम तनाव वाली श्रेणी में लेकर आने की उम्मीद है। हालांकि पूरे चुनाव के दौरान बीजिंग ने कोई टिप्पणी नहीं की और जब भी इस संबंध में पूछा गया तो उसने इसे अमेरिका का आंतरिक राजनीतिक मामला करार दिया।

वांग ने अपनी दैनिक ब्रीफिंग में कहा, ‘बाइडन ने चुनाव में जीत की घोषणा की है। हम समझते हैं कि राष्ट्रपति चुनाव के नतीजों का निर्धारिण अमेरिकी कानूनों और प्रक्रियाओं के जरिये होगा। नतीजों पर बयान के संदर्भ में वांग ने कहा कि चीन अंतरराष्ट्रीय रवायतों का पालन करेगा। चीन उन चुनिंदा प्रमुख राष्ट्रों में से एक है, जिन्होंने चुनावों पर अब तक बयान जारी नहीं किया है। उधर, यह माना जा रहा है कि ट्रंप जाते-जाते कुछ ऐसा कर जाएंगे जिससे चीन को नुकसान होगा। इसमें चीन की सरकारी कंपनियों पर प्रतिबंध, टिकटॉक के बाद दूसरे चीनी एप पर प्रतिबंध जैसे कदम शामिल हो सकते हैं।

आधिकारिक परिणामों का इंतजार करेगा रूस

बाइडन को बधाई देने पर सोमवार को रूस ने कहा कि वह चुनाव के आधिकारिक परिणामों का इंतजार करेगा। बाइडन के चुनाव जीतने के बाद रूस के राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन भी शांत हैं। बता दें कि प्रचार के दौरान जब बाइडन ने रूस विरोधी बयानबाजी की थी तो पुतिन ने करारा जवाब दिया था। हालांकि परमाणु हथियारों के नियंत्रण पर उनकी टिप्पणियों का स्वागत किया था।

राजनीति संदेश [ब्यूरो]

...