ज्यादातर टेक्सटाइल उद्योग एमएसएमई में शामिल, आर्थिक पैकेज से लोकल से वोकल पावर बनेगा पानीपत

राजनीति संदेश पानीपत, । बदली परिस्थितियों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तरफ से घोषित 20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज के एलान से एमएसएमई उद्योगों की उम्मीदें बढ़ी है। पानीपत लोकल से वोकल पावर बनेगा। यहां बनने वाले कंबल का निर्यात अब अधिक होगा। जो देश चीन के स्थान पर भारत से खरीद करना चाहते हैं उन्हें अब यहां का बना कंबल भेजा जा सकेगा। मिंक कंबल बनाने में देश की आपूर्ति पूरी करने पर यहां के उद्यमी सफल हो चुके हैं। अब विदेशों के लिए कंबल बनाने की राह पर हैं। आर्थिक पैकेज में प्रधानमंत्री ने लोकल से वोकल पर जोर दिया है। पैकेज में सूक्ष्म, लघु, एवं मध्यम उद्योगों को बढ़ावा दिया जा रहा है। स्थानीय संसाधनों पर आधारित उद्योगों के साथ आधारभूत ढांचे को मजबूती मिलेगी।

पिछले तीन वर्षों में पानीपत मिंक कंबल व थ्रीडी चादर बनाने में सफल रहा है। अब चीन से ङ्क्षमक कंबल नहीं मंगवाया जा रहा। पूरे देश की आपूर्ति पानीपत से हो रही है। कोरोना वायरस महामारी फैलने पर अनेक देश यहां से कंबल लेने के लिए तैयार हैं। बहुत से विदेशी व्यापारियों की इंक्वायरी यहां के उद्यमियों को मिली है। ऐसे समय में आर्थिक पैकेज से यहां का उद्योग बढ़ेगा। पानीपत वोकल पावर बनेगा।

पानीपत में मिंक ब्लैंकेट के 45 यूनिट लगे हैं। रोजाना 25 लाख कंबल का उत्पादन होता है। 15 नए यूनिट आने हैं। जिनकी तैयारी चल रही है। आर्थिक सहयोग मिलने के साथ ही नए यूनिट चालू हो जाएंगे। जिससे उत्पादन बढ़ेगा। विदेशों में हम कंबल निर्यात कर सकेंगे।

लॉकडाउन में सबसे अधिक प्रभावित एमएसएमई 

लॉकडाउन के कारण सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उद्योग प्रभावित हुए हैं। आर्थिक पैकेज से यह उद्योग उबरेंगे ही नहीं बल्कि उड़ान भरेंंगे। लोकल के लिए हम वोकल बनेंगे।

...